Skip to main content

Posts

ज्योतिष में ग्रीष्म ऋतु का स्वामी कौन से ग्रह हैं?

ज्योतिष में ग्रीष्म ऋतु का स्वामी सूर्य और मंगल ग्रह हैं।

ज्योतिष में विवाह का विचार कैसे करना चाहिए?

ज्योतिष में लड़का का विवाह का विचार सप्तम भाव,सप्तमेश एवं विवाह के कारक ग्रह एवं स्त्री के कारक ग्रह शुक्र ग्रह से करना चाहिए। ज्योतिष में लड़की का विवाह का विचार सप्तम भाव, सप्तमेश एवं पति के कारक ग्रह बृहस्पति ग्रह से विवाह का विचार करना चाहिए। ज्योतिषाचार्य चन्दन धर द्विवेदी। अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) https://www.ananyaastroworld.com

ज्योतिष में संतान का विचार कैसे करना चाहिए?

ज्योतिष में संतान का विचार पंचम भाव, पंचमेश एवं संतान के कारक ग्रह बृहस्पति ग्रह से करना चाहिए। ज्योतिषाचार्य चन्दन धर द्विवेदी। अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) https://www.ananyaastroworld.com/

ज्योतिष में आयु का विचार कैसे करना चाहिए?

ज्योतिष में आयु का विचार -  लग्न और लग्नेश से। अष्टम भाव और अष्टमेश से एवं  आयु का कारक शनि ग्रह से करना चाहिए। ज्योतिषाचार्य चन्दन धर द्विवेदी। अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर उत्तर प्रदेश

ग्रहों के विशेष दृष्टि स्थान। ज्योतिषाचार्य पंडित चन्दन धर द्विवेदी। अनन्या एस्ट्रोवर्ल्ड ज्योतिष परामर्श केन्द्र गोरखपुर।

शनि तृतीय एवं दशम स्थान पूर्ण दृष्टि से देखता है। बृहस्पति पंचम एवं नवम स्थान को पूर्ण दृष्टि से देखता है। मंगल चतुर्थ एवं अष्टम स्थान को ‌पूर्ण दृष्टि से देखता है। सूर्य, चन्द्र,बुध एवं शुक्र मात्र सप्तम स्थान को ही पूर्ण दृष्टि से देखते हैं। https://www.ananyaastroworld.com

Pranic Healing for सिरदर्द.अनन्या ज्योतिष केंद्र गोरखपुर (उत्तर प्रदेश )Mo.6393912409

Healing for सिरदर्द.

धन प्राप्ति के लिए किस द्रव्य से भगवान शिव का रुद्राभिषेक करना चाहिए? ज्योतिषाचार्य पंडित चन्दन धर द्विवेदी।अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर(उत्तर प्रदेश)

धन प्राप्ति के लिए भगवान शिव का मधु या घृत से रुद्राभिषेक करना चाहिए। https://www.ananyaastroworld.com

ज्योतिष में चक्र योग:- धन से खूब करेगा मालामाल। ज्योतिषाचार्य चन्दन धर द्विवेदी अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर (उत्तर प्रदेश)

ज्योतिष। जन्म कुण्डली  में चक्र योग :-  यदि आपकी जन्मकुंडली में लग्न से १,३,५,७,९,११ इन छः स्थानों में सभी ग्रह हों तो चक्र योग बनता है। चक्र योग का फल :- जिस जातक के जन्म कुंडली में यह चक्र योग बनता है उस जातक को धन से खूब मालामाल कर देता है। https://www.ananyaastroworld.com/

ज्योतिष में नल योग आपको बनायेगा धनवान। ज्योतिषाचार्य चन्दन धर द्विवेदी।अनन्या ज्योतिष केन्द्र गोरखपुर

  यदि आपके जन्म कुण्डली में सभी ग्रह द्विस्वभाव राशियों में हों तो नल योग बनता है।  नल योग का फल  - जातक  को बहुत धनवान बनाता है। https://www.ananyaastroworld.com/